Wednesday, 5 April 2017

रिश्तेदार.. !!

बड़े खट्टे मीठे …
कुछ तेडे …कुछ सीधे
होते हैं यह किरदार…. जी हैं
और कोई नही…ये होते हैं रिश्तेदार… !!

कभी मासूम …कभी अंदर के शैतान
कभी भोले ..कभी ढोंगी कोई इंसान
सबके अपने अपने मॅन ..अपने अपने विचार
और कही क्यू जाओ… ये होते हैं रिश्तेदार ..!!

कभी पास हो कर दूर हुए.. कभी दूर होकर हुए पास
कभी कोई बिजली की गोली.. तो कभी कोई ठंडक का एहसाह
रंग बड़े विचित्र हैं .. बड़ा अनोखा होता है इनका प्यार
जी हैं..बिल्कुल सही …यह होते हैं रिश्तेदार.. !!

(No personal offence - just a try on "haasye kavita") 

No comments:

Post a Comment